जीवन के श्लोक भाग-2 | Shlokas for Life with Hindi meaning

जीवन के श्लोक भाग-2 | Shlokas for Life with Hindi meaning

पात्रे त्यागी गुणे रागी भागी परिजनैः सह ।
शास्त्रे बोद्धा रणे योद्धा प्रभुः पञ्चगुणो भवेत् ॥

नायक के पाँच गुण होते हैं – त्यागी, गुणों के लिए अनुराग, बंधुओं को समभाग देना, शास्त्रज्ञ, और पराक्रम ।

तिथि र्वारश्च नक्षत्रं योगः करणमेव च ।
तत्पञ्चाङ्गमिति प्रोक्तं ॥

तिथि, वार, नक्षत्र, योग, और करण – ये पाँच काल के अंग हैं ।

न नर्मयुक्तं वचनं हिनस्तिन स्त्रीषु राजन् न विवाहकाले ।
प्राणात्यये सर्वधनापहारे पञ्चानृतान्याहुरपातकानि ॥

मज़ाक में, पत्नी के पास, विवाह के वक्त, प्राण जाने का प्रसंग हो तब, और सब लूँट जानेवाला हो तब – इन पाँच अवसर पर झूठ बोलने से पाप नहीं लगता ।

दाता दरिद्रो कृपणो धनाढ्यः पापी चिरायुः सुकृति र्गतायुः ।
कुले च दास्यं अकुले च राज्यंकलौ युगे षड्गुणमावहन्ति ॥

कलियुग में सब विपरीत होता है; दाता गरीब, और लोभी धनिक होता है; पापी दीर्घायु और सत्पुरुष अल्पायु होते हैं; कुलीन इन्सान दास होता है और अकुलीन राज्य करता है !

राजाश्रयः तस्करताश्वपण्यं आथर्वणं चापि समुद्रयानम् ।
एनानि सिध्यन्ति महाफलानि विपर्यये प्राणहराणि पञ्च ॥

राज्याश्रय, डकैती, अश्वों का व्यापार (अति साहसी व्यापार), अर्थर्ववेद के मंत्र, और समुद्रगमन, ये यदि सिद्ध हों तो महाफल देते हैं, पर अगर निष्फल हों तो प्राणहारी होते हैं ।

आत्मनाम गुरोर्नाम नामातिकृपणस्य च ।
श्रेयःकामो न गृह्नीयात् ज्येष्ठापत्यकलत्रयोः ॥

कल्याण की कामना वाले ने स्वयं को, गुरु को, अतिलोभी पुरुष को, ज्येष्ठ पुत्र को, और पत्नी को नाम से नहीं संबोधना चाहिए ।

अधीरः कर्कशः स्तब्धः कुचलः स्वयमागतः ।
पञ्च विप्रा न पूज्यन्ते बृहस्पतिसमा अपि ॥

चंचल, कठोर, दुराग्रही, कुवस्त्रधारी, और आगंतुक (बिना बताये आनेवाला), ऐसे ब्राह्मण यदि बृहस्पति समान विद्वान हो तो हि पूज्य है, अन्यथा नहीं ।

गीतासहस्रनामैव स्तवराजो ह्यनुस्मृतिः ।
गजेन्द्रमोक्षाणं चैव पञ्चरत्नानि भारते ॥

भगवद्गीता, विष्णु सहस्रनाम, भीष्मस्त्वराज, अनुस्मृति, और गजेन्द्रमोक्ष – महाभारत के ये पाँच रत्न हैं ।

तक्षश्च तन्त्रवायश्च नापितो रजकस्तथा ।
पञ्चमः चर्मकारश्च कारवः शिल्पिनो मताः ॥

सुतार, बूनकर, हजाम, धोबी, और चमार, ये पाँच शिल्पकार माने गये हैं ।

कुग्रामवासः कुजनस्य सेवाकु भोजनं क्रोधमुखी च भार्या ।
मूर्खश्च पुत्रो विधवा च कन्या विनाऽग्निना पञ्च दहन्ति कायम् ॥

गलत गाँव में निवास, बूरे लोगों की सेवा, खराब भोजन, क्रोधी पत्नी, मूर्ख पुत्र और विधवा बेटी, बगैर अग्नि के भी शरीर को जलाते हैं ।

भार्यावियोगः स्वजनापबादः ऋणस्य शेषं कृपणस्य सेवा ।
दारिद्र्यकाले प्रियदर्शनं च विनाऽग्निना पञ्च दहन्ति कायम् ॥

पत्नी का वियोग, स्वजनों की निंदा, कर्ज, कृपण (कंजूस) की सेवा, और गरीबी में प्रियजन का दर्शन – ये पाँचों अग्नि के बगैर भी शरीर को जलाते हैं ।

द्यूतेन धनमिच्छन्ति मानमिच्छन्ति सेवया ।
भिक्षया भोगमिच्छन्ति ते दैवेन विडम्बिताः ॥

जुगार से धन की इच्छा रखनेवाले, सेवा करके मान प्राप्ति की इच्छा करनेवाले, और भिक्षा द्वारा (मांगकर) भोगप्राप्ति की कामना रखनेवाले दुर्भाग्य को प्राप्त होते हैं ।

अविश्रामं वहेत् भारं शीतोष्णं च न विन्दति ।
ससन्तोष स्तथा नित्यं त्रीणि शिक्षेत गर्दभात् ॥

विश्राम लिये बगैर भार वहन करना, ताप-ठंड न देखना, और सदा संतोष रखना – ये तीन गधे से सीखने चाहिए ।

मनःशौचं कर्मशौचं कुलशौचं च भारत ।
देहशौचं च वाक्शौचं शौचं पंञ्चविधं स्मृतम् ॥

मनशौच, कर्मशौच, कुलशौच, देहशौच, और वाणी का शौच – ये पाँच प्रकार के शौच हैं ।

गोमूत्रं गोमयं क्षीरं दधि सर्पिस्तथैव च ।
गवां पञ्च पवित्राणि पुनन्ति सकलं जगत् ॥

गोमूत्र, गोबर, दूध, दहीं, और घी, गाय से मिलनेवाले ये पाँच पदार्थ जगत को पावन करते हैं ।

प्रभुर्विवेकी धनवांश्च दाता विद्वान् विरागी प्रमदा सुशीला ।
तुरङ्गमः शस्त्रनिपातधीरः भूमण्डलस्याभरणानि पञ्च ॥

विवेकी स्वामी, धनवान दानी, विद्वान विरागी, सुशील स्त्री, शस्त्रनिपात के बीच धैर्य से खडा रहनेवाला घोडा – ये पाँच भूमंडल के आभूषण हैं ।

वैद्यस्तर्कविहीनो निर्लज्जा कुलवधूर्यति र्मूर्खः ।
कटके च प्राहुणिकः मस्तकशूलानि चत्वारि ॥

तर्करहित वैद्य, लज्जाविहीन कुलवधु, मूर्ख यति, और सैन्य में जाते वक्त आया हुआ महेमान – ये चार मस्तक में शूल उत्पन्न करनेवाले हैं ।

युद्धं प्रातरुत्थानं भोजनं सह बन्धुभिः ।
स्त्रियमापद्रता रक्षेत् चतुः शिक्षेत कुक्कुटात् ॥

सुबह जल्दी उठना, युद्ध करना, बंधुवर्ग के साथ भोजन करना, और स्त्री का आपत्ति में रक्षण करना – ये चार बातें मुर्गे से सीखनी चाहिए ।

अभ्यर्थितस्तदा चास्मै स्थानानि कलये ददौ ।
द्यूतं पानं स्त्रियः हिंसा यत्राधर्मश्चतुर्विधः ॥

कलि के बिनती करने पर, परिक्षित ने उसे चार स्थान दिये – जुगार, मद्यपान, स्त्रीयों से क्षुद्र व्यवहार, और हिंसा ।

धनेषु जीवितव्येषु स्त्रीषु भोजनवृत्तिषु ।
अतृप्ताः मानवाः सर्वे याता यास्यन्ति यान्ति च ॥

धन, जीवन, स्त्री, और भोजन – इन में सब मनुष्यों को सदैव असंतोष रहा करता है ।

अवृत्ति र्भयमंत्यानां मध्यानां मरणाद्भयम् ।
उत्तमानां तु मर्त्यानामावमानाद्भयम् ॥

कनिष्ठ को बेकारी का भय होता है, मध्यम को मृत्यु का, और उत्तम मनुष्य को अपमान का भय होता है ।

पुस्तकं वनिता वित्तं परहस्तगतं गतम् ।
यदि चेत्पुनरायाति नष्टं भ्रष्टं च खण्डितम् ॥

पुस्तक, वनिता, और वित्त, परायों के पास जाने पर वापस नहीं आते; और यदि आते भी है, तो नष्ट, भ्रष्ट और खंडित होकर आते हैं ।

मुखं पद्मदलाकारं वाणी चन्दनशीतला ।
हृदयं क्रोधसंयुक्तं त्रिविधं धूर्तलक्षणम् ॥

कमल जैसा सुंदर मुख, चंदन सी शीतल वाणी, (पर) हृदय क्रोध से भरा हुआ – ये तीन धूर्त के लक्षण है ।

द्वाविमौ पुरुषौ लोके सुखिनौ न कदाचन ।
यश्चाधनः कामयते यश्च कुप्यत्यनीश्वरः ॥

दो प्रकार के लोग कभी सुखी नहीं होते; जितना धन है उससे अधिक ईच्छा करनेवाला, और सामर्थ्य न होते हुए भी कोप रखनेवाला ।

दूरस्थाः पर्वताः रम्याः वेश्या च मुखमण्डने ।
युद्धस्य वार्ता रम्या त्रीणि रम्याणि दूरतः ॥

पर्वत, वेश्या का मुखमण्डल, और युद्ध की बातें – ये तीन दूर से हि अच्छे लगते हैं ।

त्रिविधं नरकस्येदं द्वारं नाशनमात्मनः ।
कामः क्रोधः तथा लोभ स्तस्मादेतत्त्रयं त्यजेत् ॥

काम, क्रोध, तथा लोभ – ये तीन नर्क के द्वार, आत्मा की अधोगति करनेवाले हैं; इस लिए इनका त्याग करना चाहिए ।

 

Facebook Comments
Share Button

Shweta Pratap

I am a defense geek

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is the copyright of Shivesh Pratap.